परिवार पर था 10 से 12 लाख रुपये का कर्ज...परिवार के सभी सदस्‍यों ने खाया जहर...पांच की मौत...बिहार में सनसनीखेज घटना - sach ki dunia, India's top news portal Get Latest News. Hindi Samachar

Breaking

परिवार पर था 10 से 12 लाख रुपये का कर्ज...परिवार के सभी सदस्‍यों ने खाया जहर...पांच की मौत...बिहार में सनसनीखेज घटना

बिहार के नवादा जिला मुख्यालय स्थित न्यू एरिया गढ़ पर मोहल्ले के एक परिवार के पांच लोगों ने जहर खाकर जान दे दी। एक की हालत गंभीर बनी हुई है। घटना के मूल कारणों में बताया जा रहा है कि यह परिवार कर्ज से दबा हुआ था। कर्ज वापस करने का काफी दबाव था। इस कारण परिवार में काफी तनाव की स्थिति थी। इन सबसे तंग आकर आदर्श सोसाइटी के पास जाकर परिवार के छह सदस्यों ने जहर खा लिया, जिनमें पांच की मौत हो गई। जहर खाने वालों में गृहस्‍वामी केदार लाल गुप्ता, उनकी पत्नी, 20 वर्षीय गुड़िया कुमारी, 19 वर्षीय शबनम कुमारी, 18 वर्षीय साक्षी कुमारी और 17 वर्षीय पुत्र प्रिंस कुमार शामिल थे। उनमें से केवल साक्षी जीवित है। बताया गया है कि सभी ने सल्‍फास की चार-चार गोलियां खाई थीं।



नवादा में किराए के मकान में रहते थे सभी 

बताया जाता है कि परिवार मूलतः रजौली का रहने वाला है। केदारनाथ गुप्ता के मकान में नवादा में किराए के मकान में रहते थे। यहीं रहकर फल बेचने का व्यापार करते थे। उन्होंने किसी से कर्ज लिया था। उसी कर्ज को चुकाने को लेकर लगातार बनते दबाव की वजह से परिवार काफी परेशान था। कर्ज चुकाने का कोई रास्‍ता नहीं दिखा तो परिवार के सारे सदस्‍यों ने जहर खा लिया। बताया यह भी जा रहा है कि परिवार के सभी सदस्यों ने किराए के मकान से दूर आदर्श सोसायटी के समीप मजार के पास जाकर जहर खाया। जहर खाने के तुरंत बाद मौके पर ही दो की मौत हो गई, जबकि तीन ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ा। फिलहाल सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल लाया गया है।

एक को पटना किया गया रेफ़र

मृतकों में गृहस्वामी, उनकी पत्नी, दो बेटी और एक बेटा शामिल है। केदार लाल गुप्ता ने अपनी पत्नी और चार बच्चे समेत एक मजार के पास जाकर जहर खा लिया। पीड़ित केदार लाल गुप्ता अपने परिवार के साथ न्यू एरिया गढ़ मोहल्ले के पास पिछले कई वर्षो से किराए पर रहते थे। इनका पैतृक गांव रजौली थाना क्षेत्र का अम्बा बताया जाता है। नवादा में किराए के मकान में रहकर शहर में फल की दुकान चलाकर जीवनयापन करते थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें