डायबिटीज और ब्लड प्रेशर से पीड़ित महिलाएं व्रत में भूलकर भी न करें ये काम, वरना बिगड़ सकती है तबीयत - sach ki dunia, India's top news portal Get Latest News. Hindi Samachar

Breaking

डायबिटीज और ब्लड प्रेशर से पीड़ित महिलाएं व्रत में भूलकर भी न करें ये काम, वरना बिगड़ सकती है तबीयत



Shardiya Navratri 2021 : नवरात्र (Navratri) के दौरान बहुत-सी महिलाएं व्रत रखती हैं। हालांकि बदलते मौसम में व्रत रखना शरीर के लिए फायदेमंद होता है, इससे शरीर से विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं, इम्यूनिटी बढ़ती है। लेकिन अगर आप डायबिटीज (Diabetes), ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) या अन्य किसी बीमारी से ग्रस्त हैं तो व्रत रखने के दौरान आपको काफी सावधान रहना चाहिए। जनरल फिजीशियन डॉ. चारू गोयल बताती हैं कि लापरवाही बरतने पर आपको कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं (Health Related Problems) का सामना करना पड़ सकता है। इनमें चक्कर आना, थकान महसूस होना, अचानक पसीना आना, कमजोरी महसूस होना, दिल की धड़कनों का तेज हो जाना, सिरदर्द और ब्लड प्रेशर का बढ़ना या कम होना जैसी परेशानियां शामिल हैं। इसकी वजह यह है कि मेडिकल प्रॉब्लम्स (Medical Problems) से शरीर काफी सेंसिटिव हो जाता है। ऐसे में व्रत के दौरान यहां बताई जा रही बातों पर ध्यान दें।

दवाई लेनी न छोड़ें

व्रत के दौरान डायबिटीज, ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रखने के लिए निश्चित समय पर दवाएं लेती रहें, ताकि किसी तरह की समस्या ना हो। रोजाना कम से कम दो बार ग्लूकोमीटर से ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर मॉनीटर से बीपी चेक करती रहें। अच्छा होगा कि व्रत रखने से पहले अपने डॉक्टर से कंसल्ट करें ताकि उपवास के दौरान जरूरत अनुसार मेडिसिन में फेर-बदल किया जा सके।


ज्यादा लंबे समय तक भूखे न रहें

व्रत के दौरान कोशिश करें कि लंबे समय तक भूखी ना रहें। लंबे समय तक भूखे रहने की वजह से एसिडिटी हो सकती है। इससे बचने के लिए हर दो से तीन घंटे के गैप में कुछ ना कुछ खाती रहें। इसके लिए मौसमी फल, ड्राय फ्रूट्स, गर्म करके ठंडा किया दूध ले सकती हैं। इनसे आपको पर्याप्त मात्रा में फाइबर और हेल्दी ऑयल मिलेगा, साथ ही शरीर में ग्लूकोज का लेवल बैलेंस रहता है, जिससे आप एनर्जेटिक बनी रहेंगी।


डाइट का रखें ध्यान

व्रत के दौरान फाइबरयुक्त डाइट ज्यादा लेना चाहिए। इस लिहाज से मौसमी फलों का सेवन फायदेमंद होता है। इससे कब्ज या पेट संबंधी समस्याओं से बची रहेंगी। लेकिन फलाहार खाने की वजह से अगर आपको एसिडिटी की प्रॉब्लम हो जाती है तो इससे बचने के लिए सुबह उठकर खाली पेट नीबू-पानी पीना फायदेमंद हो सकता है।

ऑयली फूड्स से करें परहेज


आमतौर पर व्रत में कुट्टू के आटे की पूड़ियां, आलू का हलवा जैसी ऑयली चीजें खाई जाती हैं, जिससे एसिडिटी और कब्ज की शिकायत हो सकती है। इनके बजाय कुट्टू के आटे का चीला, सामक के चावल से बनी इडली, आलू की सब्जी खाएं तो बेहतर रहेगा।

ऐसे खाएं ड्राय फ्रूट्स


व्रत के दौरान आमतौर पर ड्राय फ्रूट्स को फ्राई करके खाया जाता है। फ्राई करने के बजाय इन्हें रोस्ट या तवे पर भून कर खाएं तो इससे आपको पेट भरे होने का अहसास बना रहेगा और आप एनर्जेटिक भी फील करेंगी। रोस्टेड फूड्स खाने से ब्लड प्रेशर की प्रॉब्लम भी नहीं बढ़ती है।

पानी की कमी न होने दें


व्रत के दौरान शरीर में पानी की कमी बिल्कुल ना होने दें। इससे डिहाइड्रेशन हो जाता है, जिससे आप हर समय टायर्ड और वीकनेस फील करेंगी। खासकर डायबिटीज पेशेंट्स को रेग्युलर नीबू पानी, नारियल पानी, छाछ पीते रहना चाहिए।

इनसे करें परहेज:


अगर आप किसी हेल्थ प्रॉब्लम से ग्रस्त हैं तो आपको व्रत के दौरान बहुत ज्यादा चाय-कॉफी नहीं पीनी चाहिए। इसके बजाय ग्रीन टी, दालचीनी की चाय लेना बेहतर है। चाय-कॉफी के अधिक सेवन की वजह से आपको एसिडिटी या डिहाइड्रेशन हो सकता है। नींद आने में भी दिक्कत हो सकती है। नींद की कमी की वजह से आप थकी हुई महसूस करेंगी। इसके अलावा व्रत के दिनों में आपको ओवर एक्टिव नहीं होना चाहिए। जितना संभव हो, शारीरिक काम कम करें और आराम ज्यादा करें। उतना ही काम करें, जितना आप आसानी से कर सकें।

No comments:

Post a Comment