सेहत की कई समस्याओं का इलाज है तुलसी का पानी, सुबह खाली पेट पिएं और स्वस्थ रहें - sach ki dunia

Breaking

सेहत की कई समस्याओं का इलाज है तुलसी का पानी, सुबह खाली पेट पिएं और स्वस्थ रहें

ये तो हम सब जानते ही हैं कि हिंदू धर्म में तुलसी का बड़ा महत्व है। इस पौधे को पवित्र माना जाता है साथ ही सुबह-शाम इसकी पूजा की जाती है, जल चढ़ाया जाता है, दीपक लगाया जाता है। घर में तुलसी के पौधे को अवश्य रखा जाता है। वहीं माना जाता है कि तुलसी से वास्तु दोष भी दूर होता है। दूसरी ओर आयुर्वेद में तुलसी को औषधी माना जाता है और कई बीमारियों के इलाज में इसका उपयोग होता है।
शोध बताते हैं कि तुलसी की पत्तियों में एंटी-बैक्टीरियल (बैक्टीरिया रोधी), एंटी-वायरल (वायरस रोधी), एंटी-इंफ्लेमेट्री (सूजन रोधी), पेन रिलीविंग (दर्द निवारक) गुण होते हैं। इसीलिए तुलसी की पत्तियों को हजारों सालों से आयुर्वेदिक औषधियों और घरेलू नुस्खों के लिए प्रयोग किया जाता रहा है।
तुलसी सांस की बीमारी, मुंह के रोगों, बुखार, दमा, फेफड़ों की बीमारी, हृदय रोग तथा तनाव से छुटकारा पाने में रामबाण साबित होती है। तुलसी शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में, वायरल संक्रमण, बालों तथा त्वचा के रोगों में भी कारगर उपाय है।
तुलसी की चाय पीने से सर्दी-जुकाम और खांसी जैसी समस्याएं तो ठीक होती ही हैं। वहीं यह भी माना जाता है कि सुबह खाली पेट तुलसी का पानी पीना इसकी चाय पीने से भी कहीं ज्यादा फायदेमंद है।
तो आइये यहां जानते हैं तुलसी का पानी पीने के फायदे और इसे बनाने का तरीका ....
- हमारे शरीर में खाने-पीने की चीजों द्वारा बहुत से ऐसे तत्व पहुंच जाते हैं जो शरीर के लिए किसी काम के नहीं होते। जिन्हें टॉक्सिन्स (विषाक्त पदार्थ) कहते हैं। इनमें से कुछ तत्व आंतों, किडनियों या खून में जमा हो जाते हैं और शरीर को नुकसान पहुंचाते हैं। मगर रोज सुबह तुलसी का पानी पीने से आपके शरीर में मौजूद ये गंदगी बाहर निकल जाती हैं और शरीर डिटॉक्स (विष मुक्त) हो जाता है।
तुलसी में कई ऐसे एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं जो आपके पाचनतंत्र और किडनियों को स्वस्थ रखते हैं और इनके फंक्शन को बेहतर बनाते हैं।
- तुलसी की पत्तियों में कई मिनरल्स और तत्व होते हैं जो आपको सांस और फेफड़ों से जुड़ी बीमारियों से दूर रखते हैं। जब आप तुलसी के अर्क वाला पानी पीते हैं तो आप सीने में बलगम, सांस की परेशानी, खांसी, टॉन्सिल, गले की खराश, फेफड़ों का कैंसर, अस्थमा जैसी तमाम बीमारियों से बचे रहते हैं।
तुलसी में एंटी-एलर्जिक गुण होते हैं इसलिए ये एलर्जी को रोकता है। इसके साथ ही एंटी-इंफ्लेमेट्री गुणों के कारण शरीर में होने वाली भीतरी सूजन दूर होती है।
- शोध से पता चलता है कि तुलसी की पत्तियों में तनाव और चिंता कम करने के गुण होते हैं। इसके साथ ही ये आपके ब्रेन फंक्शन यानी मस्तिष्क के कार्य करने की क्षमता को तेज बनाती हैं। रोजाना सुबह तुलसी का पानी पीने से आपका मेटाबॉलिक स्ट्रेस लेवल कम होता है।
सिर्फ 1 ग्लास तुलसी का पानी रोजाना सुबह पीने से आपका ब्लड ग्लूकोज और ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है। तनाव मुक्त रहने के कारण आप दिनभर एक्टिव रहते हैं और आपकी प्रोडक्टिविटी बढ़ती है।
तुलसी में एंटी-एलर्जिक गुण होते हैं इसलिए ये एलर्जी को रोकता है। इसके साथ ही एंटी-इंफ्लेमेट्री गुणों के कारण शरीर में होने वाली भीतरी सूजन दूर होती है।
- शोध से पता चलता है कि तुलसी की पत्तियों में तनाव और चिंता कम करने के गुण होते हैं। इसके साथ ही ये आपके ब्रेन फंक्शन यानी मस्तिष्क के कार्य करने की क्षमता को तेज बनाती हैं। रोजाना सुबह तुलसी का पानी पीने से आपका मेटाबॉलिक स्ट्रेस लेवल कम होता है।
सिर्फ 1 ग्लास तुलसी का पानी रोजाना सुबह पीने से आपका ब्लड ग्लूकोज और ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है। तनाव मुक्त रहने के कारण आप दिनभर एक्टिव रहते हैं और आपकी प्रोडक्टिविटी बढ़ती है।
-अगर आप मोटे हैं और आपके शरीर में बहुत सारी चर्बी जमा है तो तुलसी का पानी रोजाना पीने से आपकी चर्बी घटेगी और मोटापा धीरे-धीरे कम होने लगेगा। जो लोग पतले हैं, उन्हें चिंता करने की जरूरत नहीं है क्योंकि तुलसी का पानी सिर्फ अतिरिक्त चर्बी को ही कम नहीं करता है। बल्कि इस पानी को पीने से आपका कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल में रहता है और दिल की बीमारियों से बचाव भी होता है।
ऐसे बनाएं तुलसी का पानी
तुलसी का पानी बनाने के लिए आपको सिर्फ 2 चीजें चाहिए- तुलसी की पत्तियां और पानी।
सुबह उठकर एक कटोरे में 2 कप पानी लें और इसमें तुलसी की 10-12 पत्तियों को धोकर डाल दें। इसके बाद इसे 3-4 मिनट तक आंच में पकाएं।