जल्द भारत के हवाले होगा जाकिर नाइक? रूस में पीएम मोदी ने मलेशियाई प्रधानमंत्री से की बात - sach ki dunia

Breaking

Thursday, September 5, 2019

जल्द भारत के हवाले होगा जाकिर नाइक? रूस में पीएम मोदी ने मलेशियाई प्रधानमंत्री से की बात



व्लादिवोस्तोक. रूस के दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने गुरुवार मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद से मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने विवादास्पद इस्लामिक उपदेशक (Islamic Preacher) जाकिर नाइक (Zakir Naik) के प्रत्यर्पण का मुद्दा उठाया. भारत में नाइक कट्टरपंथ को भड़काने और मनीलॉन्ड्रिंग के मामले में वांटेड अपराधी है. भारत ने पिछले साल मलेशिया से उसे प्रत्यर्पित करने के लिए कहा था, लेकिन भारत के आग्रह को खारिज कर दिया गया था.

विदेश सचिव विजय गोखले ने कहा, 'पीएम मोदी ने जाकिर नाइक के प्रत्यर्पण का मुद्दा उठाया है. दोनों पक्षों ने इस बात पर सहमति जताई है कि ये मुद्दा दोनों देश के लिए काफी अहम है. लिहाजा दोनों देश के अधिकारी इस मसले पर एक दूसरे के सम्पर्क में रहेंगे.'

प्रधानमंत्री मोदी ने रूस के पूर्वी सुदूर क्षेत्र में पूर्वी आर्थिक मंच (ईईएफ) की पांचवीं बैठक के इतर मलेशिया के प्रधानमंत्री से बात की. प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया, 'व्लादिवोस्तोक में बैठकें जारी हैं. प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत-मलेशिया सहयोग को विविधतापूर्ण बनाने के तरीकों पर चर्चा की ताकि दोनों देशों के लोगों की भलाई हो सके.'

2016 से मलेशिया में


बांग्लादेश की राजधानी ढाका में आतंकी हमले के बाद एक जुलाई, 2016 को नाइक देश से बाहर चला गया था. बांग्लादेश ने दावा किया था कि हमले में शामिल आतंकवादी नाइक के भाषणों से प्रेरित था.
इसके बाद नाइक भारत से मलेशिया चले गए. मलेशिया मुस्लिम देश है. वहां के कई बड़े मुस्लिम धार्मिक संगठनों के अलावा शीर्ष नेताओं से जाकिर के रिश्ते काफी बढ़िया बताए जाते हैं.

मलेशिया में भी दिया था विवादित बयान
पिछले महीने ज़ाकिर नाइक ने मलेशिया में भी विवादित बयान दिया था. नाइक ने कहा था कि मलेशिया में हिंदुओं को भारत के अल्पसंख्यक मुस्लिमों की तुलना में 'सौ गुना' ज्यादा अधिकार हासिल हैं. साथ ही उसने कहा कि उसे निष्कासित करने से पहले चीनी मूल के मलेशियाई लोगों को निकाला जाना चाहिए. बाद में इस नस्ली टिप्पणी को लेकर उन्होंने माफी मांग ली थी.

No comments:

Post a Comment