12वीं में 99.99% अंक लेने वाले छात्र ने करियर की जगह चुना ये रास्ता - sach ki dunia

Breaking

Wednesday, June 7, 2017

12वीं में 99.99% अंक लेने वाले छात्र ने करियर की जगह चुना ये रास्ता

अहमदाबाद। १२वीं की परीक्षा में अगर किसी बच्चे के ९९.९९त्न मार्क्स आएंगे तो वह अपने आगे की प्लानिंग करेगा कि वो किस फील्ड में जाए, कौन से कॉलेज में दाखिला ले कि जॉब आसानी से मिल जाए, ऐसे न जाने कितने ही फ्यूचर्र प्लान बच्चे करने लग जाते हैं लेकिन १७ साल के वर्शील शाह इन सब बच्चों से अलग हैं। वर्शील के दिमाग में कुछ और ही चल रहा है। गुजरात के अहमदाबाद में एक मध्यम वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाले वर्शील ने १२वीं साइंस में  ९९.९९ प्रतिशत अंक हासिल किए हैं।

वर्शील के फैसले से परिजन भी हैरान
वर्शील का जब रिजल्ट आया तो मां-पापा से गिफ्ट में कुछ ऐसा मांगा कि वे भी हैरान रह गए। दरअसल वर्शील ने कहा कि वह संसार का त्याग कर जैन संन्यासी बनना चाहता है। हालांकि वर्शील के माता-पिता को अपने बेटे के इस फैसले पर कोई पछतावा नहीं है और पूरा परिवार वर्शील के दीक्षा समारोह की तैयारियों में जुटा है जो ८ जून गुरुवार को सूरत में होगा।

स्कूल की छुट्टियों में भी सत्संग सुनने जाता था
वर्शील के पिता जिगर शाह ने बताया कि उनका पूरा परिवार आध्यात्म की तरफ झुका हुआ है। वर्शील की जब स्कूल की छुट्टियां होती थीं तो कहीं घूमने जाने की बजाए वह सत्संग में जाना पसंद करता था।
कई जैन मुनियों और संन्यासियों से संपर्क
वर्शील सत्संगों के दौरान कई जैन मुनियों और संन्यासियों के संपर्क में आया जो संन्यासी बनने से पहले डॉक्टर, इंजीनियर और चार्टर्ड अकाउंटेंट थे लेकिन असली खुशी उन्हें दीक्षा लेने के बाद ही मिली। वर्शील के पिता कहते हैं, 'मेरे बेटे ने बहुत मेहनत कर १२वीं की परीक्षा की तैयारी सिर्फ इसलिए की थी क्योंकि मैं ऐसा चाहता था।' इतने अच्छे नंबर लाने के बावजूद वर्शील ने अब तक स्कूल से अपनी मार्कशीट नहीं ली है।
वर्शील के घर में टीवी और फ्रिज तक नहीं
वर्शील का परिवार जैन धर्म का काफी बड़ा अनुयायी है, इसका अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि उनके घर में बिजली के इस्तेमाल पर प्रतिबंध है। परिवार का मानना है कि बिजली पैदा करने की प्रक्रिया में कई मासूम जानवरों की जान जाती है, जोकि जैन धर्म के खिलाफ है। घर में टीवी और फ्रिज भी नहीं है। बिजली का इस्तेमाल सिर्फ तभी किया जाता है जब बहुत आवश्यक हो, जैसे रात में पढ़ाई के वक्त। वर्शील का पूरा परिवार सूरत में है जहां ८ जून गुरुवार को वर्शील का दीक्षा समारोह जैन मुनी कल्याण रतन विजयजी की अगुवाई में होगा।

No comments:

Post a Comment