खेलों को प्रोत्साहित करने हेतु पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा ने दिव्यांग खिलाड़ियों को दी क्रिकिट किट की सौगात, - sach ki dunia, India's top news portal Get Latest News. Hindi Samachar

Breaking

खेलों को प्रोत्साहित करने हेतु पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा ने दिव्यांग खिलाड़ियों को दी क्रिकिट किट की सौगात,




खेलों को प्रोत्साहित करने हेतु पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा ने दिव्यांग खिलाड़ियों को दी क्रिकिट किट की सौगात, वहीं सीनियर राष्ट्रीय हॉकी चैम्पियनशिप 2021 में गोल्ड मैडल जीतने पर जबलपुर पुलिस परिवार की बेटी सुश्री शमा खान को पुष्प गुच्छ, प्रमाण पत्र, व स्मृति चिन्ह प्रदान कर की हौसला अफजाई


आज दिनॉक 18.11.2021 को पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भापुसे) द्वारा खेलो को प्रोत्साहित करने हेतु खिलाडी बच्चों का सम्मान पुलिस अधीक्षक कार्यालय में किया गया।


आपने दिनॉक 03.12.2021 से 05.12.2021 तक इन्दौर में आयोजित राज्य स्तरीय क्रिकेट में सम्मिलित होने के लिये शुभकामना देते हुये मध्यांचल क्रिकेट बधिर समिति के बच्चो को क्रिकेट किट प्रदान की।

वहीं पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भापुसे) द्वारा जबलपुर पुलिस परिवार की बेटी सुश्री शमा बानो पिता प्रधान आरक्षक शौकत अली द्वारा मध्यप्रदेश टीम का प्रतिनिधित्व कर झॉसी (उत्तर प्रदेश) में आयोजित सीनियर राष्ट्रीय हॉकी चैम्पियनशिप 2021 में गोल्ड मैडल जीतने पर पुष्प गुच्छ, प्रमाण पत्र, व स्मृति चिन्ह प्रदान कर हौसला अफजाई करते हुये सम्मानित किया गया एवं भविष्य में और भी बेहतर प्रदर्शन करने हेतु शुभकामनायें दी।

पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भापुसे) द्वारा कहा गया कि खेलो को प्रोत्साहित करने के लिये जबलपुर पुलिस सदैव तत्पर है ।

उल्लेखनीय है कि सुश्री शमा बानो उम्र 21 वर्ष जी.एस. कालेज में बीकॉम सैकेन्ड ईयर की पढाई कर रही हैं, पिता शौकत अली जबलपुर पुलिस में प्रधान आरक्षक के पद पर पदस्थ है, दादा श्री इसरार अली भी जबलपुर पुलिस मे थे जो सहायक उप निरीक्षक के पद से रिटायर्ड होकर साथ में ही रहते हैं, पिता एवं दादा दोनों ही हॉकी के अच्छे खिलाड़ी रह चुके हैं। सुश्री शमा बानों ने 8 वर्ष की उम्र से पुलिस लाईन स्थित हॉकी ग्राउंड में हॉकी खेलना प्रारम्भ करते हुये हाकी की बारीकियॉ अपने पिता एवं दादा से सीखीे है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें