हरीश रावत की बढ़ेंगी मुश्किलें! बोले- 'मैं भी चाहता हूं स्टिंग का सच सबके सामने आए' - sach ki dunia

Breaking

Wednesday, September 4, 2019

हरीश रावत की बढ़ेंगी मुश्किलें! बोले- 'मैं भी चाहता हूं स्टिंग का सच सबके सामने आए'

देहरादून: पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की मुश्किलें बढ़ा सकती हैं. पी. चिदंबरम के बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के खिलाफ के खिलाफ केस दर्ज किया है. विधायक खरीद-फरोख्त स्टिंग मामले में सीबीआई ने ये केस दर्ज किया है. अब 20 सिंतबर को नैनीताल हाईकोर्ट में सुनवाई होगी. आपको बता दें कि 2016 में सामने आए स्टिंग वीडियो मामले सीबीआई के केस दर्ज किया है.
जांच एजेंसी ने कोर्ट को किया सूचित
जांच एजेंसी ने उत्तराखंड हाईकोर्ट में न्यायमूर्ति आरसी खुल्बे की अदालत को मंगलवार (03 सिंतबर) को सूचित किया कि वह पूर्व मुख्यमंत्री के खिलाफ स्टिंग वीडियो मामले में प्राथमिकी दर्ज करेगी. 
'स्टिंग का सच सबके सामने आए'
इस पूरे मसले पर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत का कहना है की स्टिंग का पूरा सत्य सबके सामने आना चाहिए. उसका न्यायिक विश्लेषण बहुत जरूरी है. हरीश रावत ने कहा कि यह जो स्टिंग कल्चर यहां आया है, जिसमें दो और स्टिंग हुए हैं. उनमें भी लोगों की रूचि जगेगी जो उसी व्यक्ति के द्वारा किए गए हैं. 

'बीजेपी सरकार पर साधा निशाना'
पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि जो दो और स्टिंग हुए हैं उन्हें तो एंजेल स्टिंग माना जा रहा है कि इन पर कोई कार्रवाई नहीं होनी चाहिए और मेरे मामले में तो जिसके घर में डकैती पड़ी है जिसके विधायक चोरे जा रहे हैं. उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि माल बरामद करने वाला तो साहूकार है और जिसके घर में डकैती पड़ी वह अपराधी है.
मैं सीबीआई का सहयोग करूंगा: हरीश रावत
हरीश रावत ने कहा अगर सीबीआई मुझे आज भी बुलाना चाहे तो मैं जाने को तैयार हूं. मेरा अपना सोचना है कि मेरे जीवन काल में इस बात का खुलासा हो जाए कि वास्तविकता क्या है? हम सीबीआई के साथ पूरा कॉपरेट करेंगे और न्यायपालिका पर हमें पूरा भरोसा है, क्योंकि न्यायपालिका ही थी जिन्होंने एक इतिहास बनाया और एक बर्खास्त मुख्यमंत्री को वापस मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठाया था. हाईकोर्ट के आदेश के बाद ही एक बर्खास्त सरकार वापस हुई.
'मुझे न्यायपालिका पर पूरा भरोसा'
यह उस समय की सत्ता की पहली राजनीतिक हार थी. शायद वह इसे पचा नहीं पाए. इसलिए सीबीआई को अपना माध्यम बनाकर तारणहार बना रहे हैं. हरीश रावत ने कहा कि यह केस एक साक्ष्य रहेगा. पूरे देश के सामने की कैसे-कैसे मामलों के लिए हम जांच एजेंसियों का इस्तेमाल करते हैं. उन्होंने कहा कि मुझे न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है.
 

No comments:

Post a Comment