कम्युनिस्ट पार्टी का एक कार्यकर्ता गिरफ्तार, आपत्तिजनक किताब बेचना का आरोप - sach ki dunia

Breaking

Thursday, September 5, 2019

कम्युनिस्ट पार्टी का एक कार्यकर्ता गिरफ्तार, आपत्तिजनक किताब बेचना का आरोप

ग्वालियर में कम्युनिस्ट पार्टी के एक कार्यकर्ता को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. कार्यकर्ता को गिरफ्तार करने के पीछे कारण एक आपत्तिजनक किताब को बेचना रहा. मामले की जानकारी लगते ही जिला प्रशासन की टीम भी मौके पर जा पहुंचे और आपत्तिजनक किताब की एक प्रति को जब्त कर जिला अभियोजन अधिकारी से चर्चा कर कार्रवाई की बात की जा रही है.
ग्वालियर कलेक्टर को शिकायत प्राप्त हुई थी कि मुस्लिम अधिकार मंच के बैनर तले फूलबाग चौराहे पर सागर ताल की सफाई को लेकर धरना दिया जा रहा है. यह धरना कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ता शेख गनी द्वारा दिया जा रहा है. धरने पर धारा 370 को लेकर एक आपत्तिजनक किताब को भी बेचा जा रही है. शिकायत मिलने पर कलेक्टर द्वारा एसडीएम और बढ़ाओ थाना पुलिस को मौके पर भेजा गया जहां से आपत्तिजनक किताब को भी जब्त किया गया. पुलिस ने कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ता शेख गनी को फूलबाग चौराहे स्थित धरना स्थल से हिरासत में ले लिया गया.
यह किताब धारा 370 से जुड़ी हुई है, इस किताब के फ्रंट कवर पेज पर जो छपा हुआ है वह आम लोगों को समाज हित में ठीक नहीं लगा. किताब के फ्रंट कवर पेज पर लिखा हुआ है कि धारा 370 सेतु या सुरंग? संविधान तार-तार संघीय ढांचा जार जार, इतना ही नहीं किताब पर एक कार्टून भी छपा हुआ है. इस किताब के अंदर की बात की जाए तो 32 पेज की इस किताब के अंदर सवाल और उसके जवाब लिखे हुए हैं यह सवाल भी कोई सामान्य सवाल नहीं है. किताब के अंदर 24 प्रश्नों के उत्तर दिए गए हैं और यह सभी प्रश्न धारा 370 भारतीय जनता पार्टी और आरएसएस से जुड़े हुए हैं. कई जगह आपत्तिजनक उत्तर लिखे हुए हैं.

किताब में लिखे प्रश्नों और उत्तर कुछ इस तरह के हैं:
1.. कश्मीर भारत में कब और कैसे शामिल हुआ?
2. कश्मीर के राजा तो हिंदू थे और प्रजा मुसलमान फिर कश्मीर किस देश में शामिल होना चाहता था?
3. धारा 370 क्या है?
4. क्या धारा 370 कश्मीर के भारत में विलय में बाधा है?
5. क्या धारा 370 से कश्मीर का विकास अवरुद्ध हुआ है?
6. धारा 35 ए क्या है?
7. भाजपा और संघ परिवार का आरोप है कि धारा 370 और 35a ही अलगाव और आतंकवाद की बुनियाद है, जब इन धाराओं के रहते अलगाव और आतंकवाद बड़ा है तो क्या यह बात सत्य नहीं है?
8.. क्या श्यामा प्रसाद मुखर्जी शुरू से धारा 370 के विरोध में रहे हैं?
ऐसे तमाम प्रश्न और उनके जवाब इस किताब में लिखे हुए हैं. किताब के अंदर वामपंथी विचारक सीपीआईएम के महासचिव सीताराम येचुरी द्वारा अपना एक लेख भी प्रकाशित किया गया है जिसका शीर्षक "कश्मीर के साथ विश्वासघात" है.
फिलहाल पढ़ो थाना पुलिस द्वारा कलेक्टर के आदेश पर कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ता शेख गनी को हिरासत में लिया गया है. वहीं जिला प्रशासन जिला अभियोजन अधिकारी से किताब को लेकर मशवरा कर रहा है और एसडीएम द्वारा जांच के आधार पर कार्रवाई की बात कही गई है.
 

No comments:

Post a Comment