मध्यप्रदेश में सत्ता जाते ही भाजपा गुटों से गिरोह में बदली : कांग्रेस - sach ki dunia

Breaking

Thursday, June 27, 2019

मध्यप्रदेश में सत्ता जाते ही भाजपा गुटों से गिरोह में बदली : कांग्रेस

भोपाल ।  मध्यप्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा एवं उपाध्यक्ष अभय दुबे ने बुधवार को संयुक्त पत्रकार वार्ता के दौरान कहा है कि जो भाजपा सत्ता में रहते गुटों में बंटी हुई थी, उसने अब गिरोह का स्वरूप ले लिया है। मंदसौर में भाजपा नेता मनीष बैरागी जमीन हथियाने के लिए अपने ही वरिष्ठ नेता नगर पालिका अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की सरेआम गोली मारकर हत्या कर देते हैं तो वहीं रतलाम जिले के कमेड गांव में हिम्मत पाटीदार बीमा पॉलिसी की राशि के लिए अपने ही नौकर की खेत में हत्या करके खुद के कपड़े पहना देते हैं वहीं इंदौर में भाजपा नेता जगदीश करोतिया मासूम बेटी ट्विंकल डागरे को हवस का शिकार बनाकर हत्या कर उसे गाढ़ देते हैं। 
यह सिलसिला यहीं नहीं रूकता, भाजपा के केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल के पुत्र प्रबल पटेल खुलेआम हथियार लहराकर लोगों पर गोलियां चलाते हैं तो दूसरी ओर भाजपा के ही पूर्व मंत्री और विधायक कमल पटेल के पुत्र सुदीप पटेल लोगों को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। 
उन्होंने इंदौर में बुधवार को हुई  घटना तो बेहद शर्मसार करने वाली बताया है। उन्होंने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक पुत्र आकाश विजयवर्गीय अपनी ही पार्टी की इंदौर भाजपा महापौर मालिनी गौड़ से राजनैतिक द्वेषवश गुंड़ों के साथ मिलकर निगमकर्मियों की पिटाई कर रहे हैं, जो बेहद निंदनीय है। अर्थात विरासत में मिली आपराधिक एवं अराजक मनोवृत्ति ही भाजपा नेता पुत्रों में हस्तांतरित हो रही है।
भाजपा महापौर मालिनी गौड़ और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की लंबे समय से चली आ रही राजनैतिक मतभिन्नता अब चरम पर है और हिंसक हो चली है। कैलाश विजयवर्गीय के बेटे और विधायक आकाश विजयवर्गीय ने बीजेपी महापौर मालिनी गौर को सीधी चुनौती देते हुए आज सरे राह निगमकर्मियों की पिटाई की। बीते दिनों भी एक पुल के लोकार्पण समारोह में खुले आम बीजेपी विधायक और बीजेपी महापौर की लड़ाई सामने आई थी। बुनियादी रूप से यह जनहित की नहीं, राजनैतिक वर्चस्व की लड़ाई है। 
इंदौर में मानसून के पूर्व जीर्ण-क्षीर्ण अवस्था के अतिखतरनाक 26 मकानों को चिन्हित किया गया था, जिस पर बीते पांच दिनों से रोज कार्यवाही की जा रही थी, जिसमें से इंदौर नगर निगम द्वारा 8 मकानों को तोड़ दिया गया था। संजय पिता दौलत राम का मकान 52-53 नगर निगम रोड पर स्थिति है, जिसे एक वर्ष पहले अर्थात 3 अप्रैल 2018 को ही इस बात की सूचना दे दी गई थी कि यह मकान नगर पालिका अधिनियम-1956 की धारा 310 के प्रावधानों के अंतर्गत खतरनाक घोषित किया गया है। अतः इसे तत्काल खाली किया जाये। दुर्भाग्यपूर्ण बात यह है कि इंदौर के भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय अपने छोटे राजनैतिक उद्देश्यों के लिए इस बात की भी परवाह नहीं करते कि इस भवन में रहने वाले लोगों की बड़ी जनहानि हो सकती है। 
मध्यप्रदेश कांगे्रस कमेटी कठोर शब्दों में भाजपा के विधायक विजयवर्गीय द्वारा किये गये इस असंवैधानिक एवं अराजक कृत्य की घोर निंदा करती है।

No comments:

Post a Comment