AMU में जिन्ना पर बवाल, पथराव-फायरिंग में एसपी सिटी एसडीएम समेत समेत 15 घायल - sach ki dunia

Breaking

Thursday, May 3, 2018

AMU में जिन्ना पर बवाल, पथराव-फायरिंग में एसपी सिटी एसडीएम समेत समेत 15 घायल

अलीगढ़ । अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) के यूनियन हाल में पाकिस्तान के जनक मोहम्मद अली जिन्ना की लगी तस्वीर को लेकर बुधवार को बवाल हो गया। एएमयू छात्र संघ की ओर से पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी को आजीवन सदस्यता देने व उनके लेक्चर का कार्यक्रम तक रद करना पड़ा। देरशाम अंसारी दिल्ली लौट गए। छात्र संघ ने देररात आपात जनरल बॉडी मीटिंग बुलाई है, ताकि मौजूदा हालात पर रणनीति तय की जा सके। इसके पहले, एएमयू सर्किल पर जिन्ना का पुतला फूंकने पहुंचे हिंदू जागरण मंच के दर्जनभर कार्यकर्ताओं से बुल (यूनिवर्सिटी सुरक्षाकर्मी) से झड़प हो गई।
हिंदूवादी युवक पहली बार एएमयू के बाबे-सैयद (मुख्य द्वार) तक नारेबाजी करते पहुंचे और एक बुल को भी पीट दिया। विरोध में सैकड़ों एएमयू छात्र रिपोर्ट लिखाने थाने चल पड़े। पुलिस ने रोका तो उससे अभद्रता की। एक युवक ने एसपी क्राइम आशुतोष त्रिवेदी के सामने ही हवाई फायर कर दिया तो पुलिस ने लाठियां भांजीं। आंसू गैस छोड़ी। छात्रों ने पथराव किया। इसमें एसपी सिटी अतुल श्रीवास्तव, एसडीएम कोल पंकज वर्मा, सीओ संजीव दीक्षित, सीओ पंकज श्रीवास्तव, दो इंस्पेक्टर समेत नौ पुलिसकर्मी भी घायल हैं। छात्र संघ अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी, सचिव मोहम्मद फहद, पूर्व उपाध्यक्ष माजिन जैदी समेत 15 से अधिक छात्र घायल हैं। दो कंपनी आरएएफ, दो कंपनी पीएसी और 12 थानों की पुलिस मुस्तैद है। डीएम चंद्रभूषण सिंह ने शासन को प्रकरण की रिपोर्ट भेज दी है। 
बवाल दोपहर डेढ़ बजे से तब शुरू हुआ, जब एएमयू सर्किल के फैज गेट के पास ङ्क्षहदू जागरण मंच के कार्यकर्ता जिन्ना का पुतला फूंकने पहुंचे। बुल व प्रॉक्टोरियल टीम के रोकने पर पुलिस के आगे ही धक्का-मुक्की हुई। पुलिस इन्हें सिविल लाइंस थाने ले आई। कुछ देर बाद करीब तीन दर्जन मंच नेता व कार्यकर्ता जिन्ना व एएमयू मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए बाबे-सैयद तक पहुंच गए। इनके पीछे जीप में पुलिस भी थी। यह देखकर एएमयू छात्र व बुल डंडे लेकर दौड़ पड़े। पुलिस ने बमुश्किल टकराव टाला। यूनियन अध्यक्ष ने मंच नेताओं व संग दिखे पुलिसकर्मियों पर एफआइआर की मांग की। एडीएम सिटी सीबी सिंह व एसपी सिटी अतुल श्रीवास्तव रिपोर्ट लिखने को राजी थे, पर देरी देखकर छात्र थाने की ओर चल दिए। लेकिन पुलिस ने आगे बढऩे से रोक दिया।
यूनियन अध्यक्ष का आरोप है कि हिंदूवादी नेता एएमयू के गेस्ट हाउस नंबर तीन पर ठहरे पूर्व राष्ट्रपति हामिद अंसारी को निशाना बनाना चाहते थे। इनकी गिरफ्तारी हो। वहीं, मंच के महानगर अध्यक्ष सोनू सविता ने बुल व एएमयू छात्र संघ पदाधिकारियों पर जानलेवा हमले व 3200 रुपये लूटने की तहरीर दी है। एएमयू के सिक्योरिटी इंचार्ज बीके गौतम, राशिद मुस्तफा व जावेदुर्रहमान ने संयुक्त रूप से और बुल सलमान ने भी तहरीर दी हैं। एसएसपी अजय कुमार साहनी ने कहा कि दोनों ओर से मिली पर रिपोर्ट लिखी जा रही है। पुलिस भी एक मुकदमा लिखाएगी। वीडियो फुटेज के जरिये साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं।
ऐसे उपजा जिन्ना विवाद
जिन्ना का विवाद भाजपा सांसद व एएमयू कोर्ट मेंबर सतीश गौतम के सोमवार को एएमयू कुलपति प्रो. तारिक मंसूर को पत्र लिखने से शुरू हुआ। सांसद ने पूछा था कि किन कारणों से जिन्ना की तस्वीर लगी है और कहां-कहां? जिन्ना भारत व पाकिस्तान के बंटवारे के मुख्य सूत्रधार थे। आज भी पाकिस्तान गैरजरूरी हरकतें कर रहा है। आज दिए बयान में सांसद ने कहा कि जिन्ना की तस्वीर हटाने को लेकर एएमयू छात्रों का विरोध समझ से परे है।
जिन्ना को महापुरुष बताने वाले मंत्री को पार्टी से निकालें : हरनाथ 
पाकिस्तान के जनक मुहम्मद अली जिन्ना को महापुरुष बताने संबंधी बयान पर प्रदेश सरकार के श्रम एवं सेवायोजन मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य को भाजपा से निकालने की मांग पार्टी के ही राज्यसभा सदस्य हरनाथ सिंह यादव ने की है। इस क्रम में सांसद के कुछ बेतुके बोल भी सामने आए। उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को देेशद्रोहियों का अड्डा तक बता दिया। बुधवार को उन्होंने पत्रकारों से कहा कि मंत्री मौर्य ने अपराध किया है। वे यह कैसे भूल गए कि जिन्ना के कारण भारत के दो टुकड़े हुए। 
उधर मेरठ में भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक विनीत शारदा ने प्रेसवार्ता कर मौर्य का जिन्ना को लेकर दिए गए बयान को उनका मानसिक दिवालियापन करार दिया। उन्होंने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष, प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मौर्य को पार्टी से बर्खास्त करने की मांग की है। 
आपराधिक तत्व जल्द गिरफ्तार किए जाएं : एएमयू 
एएमयू ने हिंदूवादी संगठनों की ओर से विश्वविद्यालय सीमा के उल्लंघन, आपत्तिजनक नारे लगाने की कड़े शब्दों में निंदा की है। विवि प्रशासन ने घायल छात्रों के साथ गहरी सहानुभूति जताते हुए जिला प्रशासन से हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं के खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की है। जारी बयान के मुताबिक कुलपति प्रो. तारिक मंसूर ने परिसर की स्थिति व एएमयू समुदाय की भावनाओं के बारे में राज्य और केंद्र सरकार के अधिकारियों को भी अवगत करा दिया है। एएमयू टीचर्स एसोसिएशन (अमुटा) ने केंद्र सरकार से पूरे प्रकरण की समयबद्ध न्यायिक जांच की मांग की है। देरशाम डीएम को दिए ज्ञापन में अमुटा अध्यक्ष प्रो. हामिद अली व सचिव प्रो. नजमुल इस्लाम ने माहौल खराब करने वालों पर कार्रवाई की मांग भी की।
48 घंटे में जिन्ना की तस्वीर न उतारी तो योगी सेना उतारेगी
हिंदू युवा वाहिनी के महानगर उपाध्यक्ष आदित्य पंडित ने चेताया है कि अगर एएमयू 48 घंटे के भीतर जिन्ना की तस्वीर नहीं उतरवाता तो वह वाहिनी कार्यकर्ताओं के साथ जाकर तस्वीर उतारेंगे। यह चेतावनी इस मामले में अहम है, क्योंकि वाहिनी के संरक्षक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ही हैं। वहीं, वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश राय ने कहा कि आदित्य पंडित को एक साल पहले ही संगठन से निष्कासित किया जा चुका है।
सुबह 11 बजे एएमयू सर्किल पर राजा महेंद्र प्रताप सिंह पर गोष्ठी का एलान किया है। इसमें मंच के ब्रज प्रांत के प्रदेश महामंत्री अविनाश राना आएंगे। इस बीच आरएसएस से जुड़े व मुस्लिम यूथ एसोसिएशन के अध्यक्ष मोहम्मद आमिर रशीद ने कहा है कि एएमयू से जिन्ना की तस्वीर जो भी उतार लाएगा, उसे 51 हजार रुपये देंगे। उधर, दोपहर में चर्चा उड़ी कि एएमयू छात्रसंघ भवन से जिन्ना की तस्वीर उतार ली गई है। हालांकि, छात्रसंघ ने कहा कि सफाई के लिए सभी तस्वीरें हटाई गई थीं। बाद में, सभी लगा दी गईं। राजनीतिक लोग हैं, उन्हें राजनीति करने दो। मैंने 10 साल में कोई राजनीति नहीं की।
जिन्ना की तस्वीर आजादी के पहले से एएमयू में लगी हुई है। इस पर किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए। मेरे विचार से विरोध गलत है। 
-सलमा अंसारी, पूर्व उपराष्ट्रपति की पत्नी
हंगामा बढ़ता देखकर एएमयू छात्र व बुल डंडे लेकर दौड़ पड़े। पुलिस ने बमुश्किल टकराव टाला। यूनियन अध्यक्ष ने मंच नेताओं व संग दिखे पुलिसकर्मियों पर एफआइआर की मांग की। सीसीटीवी फुटेज भी दिए। आरएएफ हटाने की मांग भी की। पुलिस रिपोर्ट लिखने को राजी थी, मगर देरी देखकर छात्र थाने की ओर चल दिए। 300 मीटर चले होंगे कि पुलिस-आरएएफ दीवार बन गई। यूनियन अध्यक्ष का आरोप है कि हिंदूवादी नेता एएमयू के गेस्ट हाउस नंबर तीन पर ठहरे पूर्व राष्ट्रपति हामिद अंसारी को निशाना बनाना चाहते थे। ऐसा पुलिस की मौजूदगी में हुआ। पहली बार बाबे-सैयद तक आने का दुस्साहस किया। इनकी गिरफ्तारी हो। वहीं, मंच नेता सोनू सविता ने बुल व एएमयू छात्र संघ पदाधिकारियों पर जानलेवा हमले व 3200 रुपये लूटने की तहरीर दी है। एसपी सिटी अतुल श्रीवास्तव का कहना है कि एएमयू छात्रों ने अफसरों से अभद्रता की। पथराव किया। उन्हें बलपूर्वक खदेड़ा गया है। स्थिति नियंत्रण में है। 
जिन्ना को महापुरुष बताने वाले मंत्री को पार्टी से निकालें : हरनाथ 
एटा में जिन्ना को महापुरुष बताने संबंधी बयान पर प्रदेश सरकार के श्रम एवं सेवायोजन मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य को भाजपा से निकालने की मांग पार्टी के ही राज्यसभा सदस्य हरनाथ सिंह यादव ने की है। इस क्रम में सांसद के कुछ बेतुके बोल भी सामने आए। उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को देेशद्रोहियों का अड्डा तक बता दिया। उन्होंने कार्रवाई के लिए सांसद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, प्रदेश अध्यक्ष महेंद्रनाथ पांडेय समेत कई वरिष्ठ नेताओं को ट्वीट किया है। बुधवार को उन्होंने पत्रकारों से कहा कि मंत्री मौर्य ने अपराध किया है। वे यह कैसे भूल गए कि जिन्ना के कारण भारत के दो टुकड़े हुए। 
मेरठ में भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक विनीत शारदा ने प्रेसवार्ता कर मौर्य का जिन्ना को लेकर दिए गए बयान को उनका मानसिक दिवालियापन करार दिया। उन्होंने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष, प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मौर्य को पार्टी से बर्खास्त करने की मांग की है। 
जिन्ना का विवाद भाजपा सांसद व एएमयू कोर्ट मेंबर सतीश गौतम के सोमवार को एएमयू कुलपति प्रो. तारिक मंसूर को पत्र लिखने से शुरू हुआ। सांसद ने पूछा था कि किन कारणों से जिन्ना की तस्वीर लगी है और कहां-कहां? जिन्ना भारत व पाकिस्तान के बंटवारे के मुख्य सूत्रधार थे।

No comments:

Post a Comment