कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस, पढ़ें 10 बड़ी बातें - sach ki dunia

Breaking

Tuesday, December 12, 2017

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस, पढ़ें 10 बड़ी बातें

राहुल गांधी ने मंगलवार को गुजरात में बतौर कांग्रेस अध्यक्ष पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस की. पहले चरण में जीत का दावा करने के साथ राहुल गांधी ने पीएम मोदी और बीजेपी की नीतियों पर भी जमकर प्रहार किए. पढ़ें, उनके प्रेस कॉन्फ्रेंस की 10 बड़ी बातें.

1. मोदी का विकास एकतरफा है

राहुल ने कहा- टाटा नैनो फैक्ट्री को 33 हजार करोड़ दिया गया, एक गाड़ी भी नहीं दिखाई दी. बिजली पानी सब फ्री दिया गया, पर जनता को कुछ नहीं दिया गया. बीजेपी ने शुरुआत नर्मदा से की, ओबीसी, विकास की यात्रा की बात की पर बीजेपी अपनी पोजिशन मेंटेन नहीं कर पाई. पीएम अपनी आखिरी मीटिंग में कांग्रेस या अपनी बात कर रहे हैं.

2. अब करप्शन की बात नहीं करते मोदी

राहुल ने कहा- पहले मोदी जी करप्शन की बात करते थे, जय शाह का मामला आया, राफेल डील सामने आई. अब नहीं बोलते. किसानों के बारे में अब नहीं बोलते. ये मूड मोदी, बीजेपी रुपाणी सब में हैं पहला राउंड हो गया है, हम चुनाव जीत रहे हैं.

3. सवाल- मंदिर में आपने क्या मांगा?

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा- हमारी यात्रा निकली है. जिस भी मंदिर में गया हूं, गुजरात की जनता के लिए सुनहरा भविष्य मांगा है. प्रदेश के युवा, किसानों को अच्छा भविष्य मिले. मंदिर में जाना मना है क्या?

4. मैं बैलेंस डेवलपमेंट की बात करता हूं

राहुल ने कहा- जो मैंने पहले बात बोली, बैलेंस डेवलपमेंट की बात. एक तरफ कंपनी को सत्ता कर्ज देते हैं, किसान बिजली मांगता है तो सिर्फ रात को देते हैं. कांग्रेस बैलेंस तरीके से आगे बढ़ाना चाहती है. किसान कर्ज माफी, सरदार पटेल हेल्थ कार्ड बैंकिंग सिस्टम का फोकस 10 लोगों पर है. गुजरात के दुकानदार, व्यापारी को कुछ सपोर्ट नहीं किया.

5. गब्बर सिंह टैक्स ने 50 फीसदी पैसे गायब किए

उन्होंने कहा- 8 नवंबर को पहला झटका मारा फिर गब्बर सिंह टैक्स. इसने 50 फीसदी पैसे व्यापारियों का गायब कर दिया है. इससे हम हटेंगे. किसान कोसपोर्ट करेंगे. सिस्टम को मजबूत करेंगे. फिक्स पे की जो बात है, मुझे टच हुआ. गुजरात की एक टीचर रोते हुए कहती हैं- महंगाई बढ़ रही है, मगर मेरी सैलरी नहीं मिल रही है. कॉन्ट्रैक्ट को हम पर्मानेंट में बदल देंगे. जो भी फैसला लेंगे, हम गुजरात की जनता की आवाज सुनकर लेंगे.

6. मैं सिर्फ गुजरात में मंदिर गया, ये बीजेपी की बनाई स्टोरी है

राहुल ने मंदिरों का दौरा करने के मामले में कहा- ये बीजेपी की स्टोरी है. उत्तराखंड में भी गया था. केदारनाथ भी गया था, केदारनाथ गुजरात में है क्या? इस बार यात्रा था तो गया. मुझे अच्छा लगा.

7. हमारा रिकॉर्ड रहा है अच्छा

हमने 70 हजार करोड़ किसानों के माफ किए हैं. कपास के किसानों से पूछ लीजिए. हमारा रिकॉर्ड है, हम हवा में नहीं बोल रहे हैं. जब हम बोनस की बात कर रहे हैं. हमने किया है. मोदी जी ने लंबे वादे किए, 15 लाख का वादा किया, 2 करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात की, मेक इन इंडिया की सच्चाई देख लीजिए.

8. सवाल- 2007 और 2012 के चुनाव में पहले भी कांग्रेस उठाती रही है ये मुद्दे, इस बार क्यों स्वीकार करेगी?

इस बार बीजेपी को लेकर कह रहे हैं कि कांग्रेस चुनाव रणनीति से लड़ रही है. चुनाव नैरेटिव, मुद्दों पर जीता जाता है. किसी भी चुनाव को देखें, जिसका नैरेटिव बदलता नहीं, वह जीतता है. अगर बीजेपी को देखें तो वे नैरेटिव वे इश्यू पर खेल ही नहीं पा रहे हैं. मोदी जी अपने बारे में बोल रहे हैं, ध्यान हटाने की कोशिश कर रहे हैं.

9. जवाब क्यों नहीं देते मोदी?

45 हजार करोड़ का कर्जा है, इस उद्योगपति पर आपने क्यों दिया कॉन्ट्रैक्ट. सरकारी कॉन्ट्रैक्ट में सीएससी से पूछा जाना चाहिए, पेरिस में डील कर लिया- क्या आपने इस कमेटी से पूछा. इसमें आज तक नहीं जवाब दिया. कह दीजिए, दाम कम है. मैं जानता हूं कि आप पर दबाव रहता है. पूरा गुजरात समझ गया है कि बीजेपी, रुपाणी जी में खोखला पन सा है.

10. पाकिस्तान का मुद्दा, मणिशंकर अय्यर, सलमान का मुद्दा लाया? पीएम संवेदना जोड़ रहे हैं लोगों से?

मैंने अपने पोजिशन शब्द-एक्शन से क्लियर कर दी है. जिस प्रकार से अय्यर ने बोला- मैंने कह दिया कि यह टॉलरेट नहीं करूंगा. जिस प्रकार से मोदी ने मनमोहन सिंह के बारे में बात की, वह भी स्वीकार नहीं, मनमोहन सिंह भी पीएम रहे हैं. काम किया, कुर्बानी दी है.

No comments:

Post a Comment