MP में किसान आंदोलन: मंदसौर में कर्फ्यू में ढील, 8 घंटे खुले रहेंगे बाजार-पेट्रोल पंप - sach ki dunia

Breaking

Friday, June 9, 2017

MP में किसान आंदोलन: मंदसौर में कर्फ्यू में ढील, 8 घंटे खुले रहेंगे बाजार-पेट्रोल पंप

मध्य प्रदेश में किसान आंदोलन के 8वें दिन भी कई जगह विवाद हुए. प्रशासन ने शुक्रवार से मंदसौर में धरना प्रदर्शन पर रोक लगा दी है. वहीं, कर्फ्यू में सुबह 10 से शाम छह बजे तक ढील दी गई है. इस दौरान बाजार और पेट्रोल पंप खुले रहेंगे.

> राजधानी के करीब पहुंची किसान आंदोलन की आंच. आज भोपाल-इंदौर हाईवे पर सीहोर के पास फंदा में किसानों के चक्काजाम का ऐलान. हाईवे पर ट्रैफिक रहेगा डाइवर्ट.

> शाजापुर में चार पहिया वाहन को किसानो ने लगाई आग. गैरखेड़ी गांव मे शराब ठेकेदार की जीप को फूंका. दो लोग घायल. दमकल और पुलिस मौके पर पहुंचे. रिपोर्ट के मुताबिक, अवैध शराब सप्लाय करने गांव गई थी जीप, जेठडा जोड पर भारी पुलिस बल तैनात
आम आदमी पार्टी के नेताओं का शुक्रवार को मंदसौर जाने का कार्यक्रम है. रिपोर्ट के मुताबिक, पांच नेता पीड़ितों से मुलाकात करेंगे. इसे देखते हुए मंदसौर सीमा पर सुरक्षा बल तैनात कर दिए गए हैं और उन्हें वहीं पर रोकने का प्रयास करेंगे.

गुरुवार को एक तरफ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को मंदसौर से पहले हिरासत में लिया गया. दूसरी तरफ शाजापुर और देवास में किसान एक बार फिर उग्र हो गए. प्रदर्शनकारियों के पथराव में एक अधिकारी की पैर टूट गई. मंदसौर में देर शाम तक हालत में सुधार हुआ और दो घंटे कर्फ्यू में ढील दी गई. रिपोर्ट के मुताबिक, गुरुवार को किसानों का आंदोलन कुछ नए जिले में भी फैल गया और वहां लोगों ने प्रदर्शन किया.

गुरुवार को राहुल गांधी बाइक से मध्य प्रदेश की सीमा में घुसे. हालांकि, इस दौरान पुलिस ने राहुल के साथ 29 कांग्रेसी नेताओं को नीमच सीमा पर गिरफ्तार कर लिया. हालांकि, देर शाम रिहा होने पर राहुल गांधी ने राजस्थान सीमा पर पीड़ित किसानों के परिजनों से मुलाकात की और उन्हें ढाढस बंधाया. उन्होंने उनकी इस लड़ाई में साथ देने का वादा किया.
गुरुवार को यहां प्रदर्शनकारियों ने किया प्रदर्शन> देवास में आंदोलनकारियों ने एक ट्रक को आग लगा दी.
> शाजापुर में नेशनल हाईवे-3 पर बड़ी संख्या में किसान जमा हो गए और सड़क पर प्याज फेंककर चक्काजाम कर दिया. पुलिस ने जब प्रदर्शनकारियों को खदेड़ने की कोशिश की तो हालात बिगड़ गए.
> शाजापुर में किसानों ने जमकर उत्पात मचाया. कृषि उपज मंडी में प्याज की खरीदी शुरू होने से नाराज किसानों ने एक ट्रक और चार मोटर साइकिलों में आग लगा दी.
> भोपाल-इंदौर मार्ग पर बसों की आवाजाही बुरी तरह प्रभावित हुई.

एक जून से कैसे बिगड़ हालत
1 से 10 जून तक हड़ताल का किया गया था ऐलान
> मध्यप्रदेश में एक जून से 10 जून तक किसानों ने हड़ताल का ऐलान किया.
> एक जून को सभी जिला मुख्यालय पर सभा का आयोजन किया गया.
> हड़ताल का मध्यप्रदेश के मालवा और निमाड़ अंचल में सबसे ज्यादा असर देखा गया.
> यहां जगह-जगह सब्जियों और दूध की सप्लाई रोक दी गई.
> जगह-जगह सड़कों पर दूध धोला गया.
> शाजापुर में वाहनों में तोड़फोड़ की गई.
> इंदौर, धार, उज्जैन और हरदा सहित कुछ जगहों पर भारी विरोध प्रदर्शन.
> शाजापुर में पुलिस पर पथराव में आठ पुलिसकर्मी घायल.
> पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े.
> मंदसौर, नीमच और झाबुआ में भी विरोध प्रदर्शन.

दो जून 2017
> इंदौर में हिंसक हुआ आंदोलन, रात तक हिंसक झड़पें.
> एसडीएम और पुलिस की गाड़ियां फोड़ी.
> धार के सरदारपुर में व्यापारी और किसान आमने-सामने.
> व्यापारियों ने बाजार बंद करा रहे किसानों को खदेड़ा, छह बाइक जलाई.
> कालाबजारी शुरू, कई जगहों पर दूध 80 से 100 रुपए लीटर बिका.
> उज्जैन में पुलिसकर्मी की पिटाई.
> सीएम ने की अपील, किसान किसी के बहकावे में नहीं आए.

तीन जून 2017
> तीन जूनः इंदौर में हालात बेकाबू, बिजलपुर में बवाल. कई वाहनों को आग लगाई, पुलिस पर पथराव, आंदोलनकारियों पर काबू पाने के लिए पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले.
> मालवा अंचल रतलाम जिले में भी फैली आंदोलन की आग. जिले के ताल में हिंसा भड़की. पुलिस को हालात पर काबू पाने के लिए हवाई फायरिंग करनी पड़ी.
> उज्जैन जिले के ग्रामीण अंचलों में भी फैला किसान आंदोलन, नागदा और उन्हेल में भी लूटपाट और तोड़फोड़.

चार जून 2017
> सीएम शिवराज ने किसानों की मांगे मानी भारतीय किसान संघ और किसान सेना आंदोलन से पीछे हटी. किसान यूनियन हड़ताल पर कायम रही.
> इंदौर के बाद रतलाम जिले में भारी हिंसा, तीन पुलिस वाहनों को आग लगाई.
> भोपाल भी पहुंची आंदोलन की आग, मिसरोद में सड़कों पर दूध फेंका.
> इंदौर के आसपास के जिलों खंडवा, खरगोन, देवास, शाजापुर के अलावा मंदसौर में भी विरोध प्रदर्शन तेज हुआ.

पांच जून 2017
> शिवराज सिंह चौहान ने साफ किया कि किसानों का कर्ज माफ नहीं होगा. 1000 करोड़ का मूल्य स्थिरीकरण कोष बनाने का ऐलान.
> इंदौर और आसपास के कस्बों में विरोध प्रदर्शन जारी, लेकिन हिंसा की छुटपुट घटना
> मंदसौर और नीमच अंचल में जमकर बवाल.
> मंदसौर के दलौदा में रेलवे फाटक तोड़ा, रेलवे कैबिन को नुकसान पहुंचाया, पटरियों को उखाड़ने की कोशिश.
> रतलाम-चित्तौड़ रेलवे ट्रैक पर यातायात बाधित.
> नीमच में भी भारी बवाल, पुलिस और प्रदर्शनकारी आमने-सामने. पथराव के बाद कई वाहनों में तोड़फोड़, पुलिस ने लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े

छह जून 2017
> मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले के पिपलिया मंडी में भारी हिंसा.
> एक हजार से ज्यादा लोगों ने फोरलेन पर चक्काजाम किया.
> पुलिस ने खदेड़ने की कोशिश की तो हालात बेकाबू हो गए.
> उग्र भीड़ ने 25 ट्रकों को आग के हवाले कर दिया.
> पुलिस ने काबू पाने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े. तो किसान खेतों में फैल गए और पुलिस को घेरकर पथराव शुरू कर दिया.
> इस दौरान फायरिंग में छह लोगों की मौत.
> कई वाहनों में आग लगाई, मंदसौर और पिपल्यामंडी इलाके में कर्फ्यू लागू.
> मंदसौर और नीमच में इंटरनेट बंद.

7 जून 2017 

> देवास और मंदसौर में किसान उग्र.

> सीएम के आने पर ही मृतकों का अंतिम संस्कार करने पर अड़े.

> देवास, नीमच और मंदरसौर में कई जगह आगजनी हुई.

No comments:

Post a Comment