दिल्ली में मंकीपॉक्स का खतरा बढ़ा, एक और संदिग्ध मामले ने चिंता बढ़ाई - sach ki dunia, India's top news portal Get Latest News. Hindi Samachar

Breaking

दिल्ली में मंकीपॉक्स का खतरा बढ़ा, एक और संदिग्ध मामले ने चिंता बढ़ाई



नई दिल्ली:दिल्ली में मंकीपॉक्स (Monkeypox) के मामले बढ़ रहे हैं. यहां पर एक और संदिग्ध मामला सामने आया है. मरीज को दिल्ली के LNJP अस्पताल में भर्ती कराया गया है. ऐसा बताया जा रहा है कि पीड़ित के शरीर पर चकत्ते और तेज बुखार जैसे लक्षण पाए गए. मरीज का सैंपल जांच के लिए भेजा जा चुका है. हालांकि अभी रिपोर्ट सामने नहीं आई है. अब तक मंकीपॉक्स के कुल चार मामले सामने आए हैं. ऐसा कहा जा रहा है कि संदिग्ध मरीज विदेश की यात्रा करके आया था. पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में उसके सैंपल को भेज दिया गया है.


इस दौरान दिल्ली में मंकीपॉक्स के पहले मरीज के संपर्क में आने वाले शख्स ने शरीर में दर्द होने की बात कही है. उसे अभी निगरानी में रखा गया है. मंकीपॉक्स के चार मामलों में तीन केरल और 1 दिल्ली का सामने आया है.दिल्ली में पाया गया पहला मंकीपॉक्स का मरीज लोक नायक जय प्रकाश अस्पताल में भर्ती है. उसकी सेहत लगातार ठीक हो रही है. शरीर पर चकत्ते और घाव को सूखने में एक हफ्ता और लगेगा. इस दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बीमारी को लेकर अलर्ट जारी किया गया है.

इन राज्यों में ये है तैयारी

दिल्ली: विदेश से आने वाले यात्रियों पर कड़ी नजर रखी जा रही है. संक्रमण का लक्षण मिलने पर उन्हें इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा से लोकनायक जय प्रकाश नारायण (एलएनजेपी) अस्पताल भेजने के निर्देश दिए गए हैं. यहां पर ऐसे मरीजों के लिए अलग से वॉर्ड बनाए गए हैं.

झारखंड: ओपीडी में संदिग्धों ही पहचान करने के आदेश दिए गए हैं. रांची सहित राज्य के सभी सिविल सर्जनों को एडवाइजरी दी गई है कि मंकीपॉक्स से निपटने के लिए अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड बनाए जाएं. इसके साथ विदेशों से आने वाले पर्यटकों से अपील की गई है कि अगर 21 दिन के अंदर मंकीपॉक्स के लक्षण दिखें तो अस्पताल जाकर जांच कराना चाहिए.

उत्तराखंड: यहां पर डेंगू और मंकीपॉक्स को लेकर एडवाइजरी जारी की गई है. इसमें केरल या प्रभावित देशों से पहुंच रहे लोगों पर नजर रखने को कहा गया है.

यूपी: यूपी सरकार भी सतर्क है. राज्य सरकार की ओर से कहा गया है कि पड़ोसी राज्यों में मंकीपॉक्स के मामले आने पर सावधानी बरती जाए. राज्य सरकार ने बीमारी को देखते हुए कुछ अस्पतालों में 10 बेड आरक्षित कराए हैं. इसके साथ निगरानी के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारियों, फ्रंट लाइन के वर्कर्स को प्रशिक्षिण दिया जा रहा है. वहीं मध्यप्रदेश और बिहार में भी अलर्ट जारी किया है. हालांकि यहां पर अभी कोई भी केस नहीं है.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें