बांग्लादेश मुक्ति संग्राम अन्याय के खिलाफ नैतिक लड़ाई थी: राजनाथ सिंह - sach ki dunia, India's top news portal Get Latest News. Hindi Samachar

Breaking

बांग्लादेश मुक्ति संग्राम अन्याय के खिलाफ नैतिक लड़ाई थी: राजनाथ सिंह



रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को बांग्लादेश के मुक्ति संग्राम को 20वीं सदी के इतिहास में एक 'अभूतपूर्व घटना' करार दिया। मंत्री ने कहा, "यह अन्याय, अत्याचार और उत्पीड़न के खिलाफ एक नैतिक लड़ाई थी। आम लोगों को बेरहमी से अपंग किया गया और उनकी हत्याएं की गई। ऑपरेशन सर्चलाइट के बर्बर अत्याचारों ने दुनिया की अंतरात्मा को झकझोर दिया।"




नई दिल्ली में बांग्लादेश उच्चायोग में 'बंगबंधु' शेख मुजीबुर रहमान को भावभीनी श्रद्धांजलि देते हुए, सिंह ने कहा कि बांग्लादेश के पहले राष्ट्रपति का प्रेरक नेतृत्व देश के लोगों के लिए स्वतंत्रता के संघर्ष में मार्गदर्शक था।




उन्होंने कहा, "बंगबंधु के आदशरें ने बांग्लादेश के विकास के पथ पर तेजी से आगे बढ़ने की नींव रखी।"




सिंह ने बांग्लादेश के सशस्त्र सेना दिवस के अवसर पर नई दिल्ली में बांग्लादेश उच्चायोग का दौरा किया। यह कार्यक्रम बांग्लादेश उच्चायोग द्वारा आयोजित किया गया था।




सिंह ने भारतीय सशस्त्र बलों की ओर से बांग्लादेश के सशस्त्र बलों को बधाई दी और शांति और सुरक्षा की दिशा में उनकी कोशिशों के लिए शुभकामनाएं दीं।




"यह साल भारत-बांग्लादेश संबंधों के लिए असाधारण महत्व का है क्योंकि हम बांग्लादेश की मुक्ति की स्वर्ण जयंती, पचास साल के भारत-बांग्लादेश राजनयिक संबंधों और 'बंगबंधु' शेख मुजीबुर रहमान की जन्म शताब्दी मना रहे हैं।"




उन्होंने कहा, "इस महत्वपूर्ण समय में, मैं 1971 में मुक्तिजुद्धो-मुक्ति संग्राम में मुक्तिबाहिनी के बहादुर संघर्ष को सलाम करता हूं। मुक्तिजुद्धा की भावना बांग्लादेश के आज के सशस्त्र बलों का मूल है।"




सिंह ने भारतीय सैनिकों को भी श्रद्धांजलि अर्पित की, जो मुक्ति संग्राम के दौरान बांग्लादेश के साथ खड़े रहे, उन्होंने कहा कि यह 20वीं शताब्दी में विश्व इतिहास में एक सुनहरा अध्याय है।




उन्होंने भारत में असाधारण नेतृत्व को भी याद किया, जो 1971 में अन्याय और अत्याचारों के खिलाफ लड़ने वाले राष्ट्र के समर्थन में सभी बाधाओं और सीमाओं के खिलाफ इस अवसर पर पहुंचा।




उन्होंने कहा कि 1971 की घटनाओं के प्रति भारत की प्रतिक्रिया एक सभ्यता का प्रतिबिंब थी।




उन्होंने कहा, "भारत का पूरा समर्थन स्वाभाविक रूप से ऐतिहासिक अनुभव और गहरे भावनात्मक, सांस्कृतिक, भाषाई और भ्रातृ संबंधों से आया है जो भारत और बांग्लादेश के लोगों को एक साथ बांधते हैं। हमें इस बात पर गर्व है कि साझा बलिदान में स्थापित यह मित्रता कई गुना समृद्ध हुई है।"




सिंह ने 'मुक्ति संग्राम' की भावना को युवा पीढ़ी, विशेष रूप से सशस्त्र बलों में शामिल होने वालों के मन में जीवित रखने का आह्वान किया।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें