श्रावण मास में भगवान शिव शंकर को खुश करने के उपाय जानिये - sach ki dunia

Breaking

Tuesday, August 1, 2017

श्रावण मास में भगवान शिव शंकर को खुश करने के उपाय जानिये

श्रावण का महीना भगवान शिव का प्रिय महीना माना जाता है. कहा जाता है कि सावन में भगवान शिव आसानी से प्रसन्न हो जाते हैं और अपने भक्तों को मनचाहा आशीर्वाद देते हैं. इसलिए सभी लोग सावन में अपने परिवार की खुशहाली मांगने के लिए तरह-तरह के उपाय करते हैं.
अगर आप भी चाहते हैं कि आपके साथ-साथ आपका घर भी उन्नति करे, घर में हर समय सकारात्मक वातावरण बना रहे, कोई संकट ना आने पाए, तो इसके लिए हम कुछ खास वास्तु उपाय बताने जा रहे हैं.
हम आपको भगवान शिव की आठ प्रिय वस्तुओं के बारें में बताने जा रहे हैं जिनको घर में लाकर आप भगवान शिव से अपने घर की खुशहाली मांग सकते हैं-

1. रुद्राक्ष:

रुद्राक्ष की उत्पत्ति भगवान शिव के नेत्रों से गिरे आंसुओं से मानी जाती है. पौराणिक कथाओं के वर्णन के अनुसार शिव जी के आंसू धरती के जिन-जिन हिस्सों में गिरे थे, वहां रुद्राक्ष की उत्पत्ति हुई थी. जाप में रुद्राक्ष की माला उत्तम मानी जाती है. इस सावन के किसी सोमवार को एक रुद्राक्ष को घर के मुखिया के कमरे में लाकर रख देना है. यह रुद्राक्ष घर को लाभ देगा.

2. भस्म:

भस्म और शिव में गहरा रिश्ता है, भगवान शिव के प्रिय अधोरी साधु भी शरीर पर वस्त्र पहनने के स्थान पर भस्म लगाते हैं. उनके अनुसार शिव जी का आशीर्वाद है यह भस्म. श्रावण में शिव जी की कृपा पाने के लिए आप घर में उनकी मूर्ति के साथ भस्म जरूर रखें.

3. गंगाजल:

यदि आप पौराणिक इतिहास जानते हैं तो जरूर जानते होंगे कि भगवान शिव ही देवी गंगा को अपनी जटाओं में बांधकर स्वर्ग लोक से धरती लोक लाए थे. शिव पूजा में गंगा के जल का अहम महत्व है.इस श्रावण शिव जी की कृपा पाने के लिए घर के रसोई घर में गंगा जल लाकर रखें. आप किसी भी तांबे के पात्र में थोड़ा-सा गंगाजल रख सकते हैं.

4. त्रिशूल:

त्रिशूल को भगवान शिव का अस्त्र माना जाता है, यदि इसे आप घर में लाकर रखेंगे तो यह आपके घर में आ रही बुरी शक्तियों का सर्वनाश करेगा. आपको चांदी या तांबे का त्रिशूल घर के हॉल में रखना है.

5. पानी से भरा हुआ तांबे का पात्र :

पानी से भरा हुआ तांबे का लोटा घर के लिए काफी शुभ माना जाता है. इसे घर के उस हिस्से में रखें जहां घर के सदस्य सबसे ज्यादा बैठते हों. ऐसा करने से परिवार के सदस्यों में आपसी प्रेम और विश्वास बना रहता है. तांबे के पात्र में रखा पानी पीना स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा होता है.

6. डमरू:

डमरू के बारे में कौन नहीं जानता, इसका नाम लेते ही भक्तों के मुख पर भोले भंडारी का नाम होता है. कहते हैं भगवान शिव का यह डमरू अपनी तेज आवाज से बुराई को काटता है. इसीलिए मंदिरों में पूजा-आरती के समय डमरू का प्रयोग जरुर किया जाता है. इसे बच्चों के कमरे में रहना चाहिए, इससे उन्हें किसी प्रकार का भय नहीं सताता.

7. नंदी:

भगवान शिव के वाहन माने जाते हैं नंदी. भगवान शिव तक कोई बात पहुंचाने के लिए नंदी के ही पार्थना की जाती है. घर में चांदी या तांबे के बने नंदी लाकर अलमारी या तिजोरी में रखना चाहिए. आप इन्हें ऐसे किसी भी स्थान पर रख सकते हैं जहां आपकी मूल्यवान वस्तुएं रखी हों.

8. नाग:

भगवान शिव के गले में धारण किया हुआ नाग, हिन्दू धर्म में काफी अहम माना जाता है. इसे भगवान शिव का अभिन्न अंग माना जाता है. इस श्रावण यदि आप शिव जी की कृपा पाना चाहते हैं तो चांदी या तांबे का नाग लाकर घर के मेन गेट के आसपास रखें. इससे कामों मे जो रुकावट आ रही थी, वो नहीं आएगी. सभी काम सफलतापूर्वक बनते चले जाएंगे.

No comments:

Post a Comment