भारत ने कोरोना पर नियंत्रण पाने के लिए उठाया बड़ा कदम, डब्ल्यूएचओ प्रमुख बोले- वायरस को रोकना मुमकिन - sach ki dunia, India's top news portal Get Latest News. Hindi Samachar

Breaking

भारत ने कोरोना पर नियंत्रण पाने के लिए उठाया बड़ा कदम, डब्ल्यूएचओ प्रमुख बोले- वायरस को रोकना मुमकिन

 


भारत ने कोरोना की दूसरी लहर पर काबू पाने के लिए मंगलवार को बड़ा फैसला लिया। इसके तहत कोविड-19 की ऐसी तमाम विदेशी वैक्सीन को भी भारत में इ्र्रस्तेमाल की मंजूरी प्रदान की जाएगी, जिसे की देश की सरकारी एजेंसी ने अप्रूव किया होगा। टीकाकरण की गति को और तेज करने के लिए केंद्र सरकार ने यह फैसला किया है। उधर, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख टेड्रोस एडहोम घेबियस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) का कहना है कि कोरोना वायरस पर काबू पाना मुमकिन है, लेकिन इसके लिए गंभीरता से प्रयास करने होंगे।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा, 'केंद्र सरकार ने घरेलू उपयोग के लिए टीकों को बढ़ाने व टीकाकरण की गति को तेज करने के लिए उन विदेशी कोविड वैक्सीन को भारत में आपातकालीन उपयोग की मंजूरी देने की प्रक्रिया तेज की जाएगी, जिनका विदेशों में इस्तेमाल किया जा रहा है। इमरजेंसी अप्रूवल की प्रक्रिया फास्ट ट्रैक पर चलाने के साथ ही बड़ी तादाद में ड्रग मैटेरियल के आयात को भी बढ़ावा दिया जाएगा।

सरकार ने अपने आदेश में अमेरिका, यूरोप, ब्रिटेन, जापान और डब्ल्यूएचओ से जुड़ी संस्थाओं का भी जिक्र किया है। बता दें कि केंद्र सरकार ने सोमवार को ही रूस की स्पुतिनक-V को भी देश में आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी है। केंद्र सरकार किसी भी वैक्सीन को मंजूरी देगी, उसका सात दिनों तक 100 मरीजों पर असर देखा जाएगा। इसके बाद उस वैक्सीन को कोविड वैक्सीनेशन प्रोग्राम में शामिल कर लिया जाएगा। सरकार का दावा है कि इससे वैक्सीनेशन ड्राइव में तेजी आएगी।

डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने जताई चिंता

उधर, डब्ल्यूएचओ प्रमुख टेड्रोस एडहोम घेबियस ने भारत समेत दुनियाभर में कोरोना वायरस मामलों में दोबारा इजाफा होने पर चिंता जताई है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार टेड्रोस ने कहा, 'सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों में निरंतरता की कमी के कारण कोविड-19 संक्रमण और मौतों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। इस महामारी खत्म होने में लंबा समय लगेगा, लेकिन साल 2021 के पहले 2 महीनों के दौरान संक्रमण के मामलों और मौतों में आई गिरावट दर्शाती है कि कोविड 19 को रोका जा सकता है। उन्होंने कहा कि दुनियाभर में करीब 78 करोड़ लोगों का कोविड वैक्सीनेशन किया जा चुका है, लेकिन संक्रमण रोकने के लिए मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना भी बेहद जरूरी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें