अपनी डाइट में इन चीजों को शामिल कर के डिप्रेशन की समस्‍या से पाइए छुटकारा - sach ki dunia, India's top news portal Get Latest News. Hindi Samachar

Breaking

अपनी डाइट में इन चीजों को शामिल कर के डिप्रेशन की समस्‍या से पाइए छुटकारा

डिप्रेशन से छुटकारा पाने में आपकी मदद करेंगी ये 9 चीजेंडिप्रेशन या अवसाद एक मानसिक बीमारी है जिसे ज्‍यादातर लोग ठीक तरह से समझ नहीं पाते हैं। यदि कोई व्‍यक्‍ति अवसाद से ग्रस्‍त है तो उसे क्या खाना चाहिए और क्‍या नहीं ? इस बात का ध्यान रखा जाना बेहद जरूर है। अवसाद के कारण और लक्षणों को ध्‍यान में रखते हुए आप अपने आहार में कुछ ऐसी चीजों को शामिल कर सकते हैं जो इससे बाहर निकलने में आपकी मदद करें।
दही में लैक्‍टोबेसिलस और बिफिडोबैक्‍टीरिया नामक स्‍वस्‍थ बैक्‍टीरिया होते हैं। कई अध्‍ययनों में सामने आया है कि ये दोनों बैक्‍टीरिया मस्तिष्‍क पर सकारात्‍मक प्रभाव डालते हैं। रोजाना दही का सेवन कर चिंता, अवसाद और स्‍ट्रेस को कम किया जा सकता है।
ग्रीन टी में थायमिन नामक अमीनो एसिड होता है जो कि मूड से जुड़े विकारों को ठीक करने की शक्‍ति रखता है। थायमिन में अवसाद-रोधी और दिमाग को आराम देने वाले गुण होते हैं एवं यह सेरोटोनिन और डोपामाइन के उत्‍पादन में भी वृद्धि करता है। अवसाद से निपटने के लिए आप बड़ी आसानी से अपनी जीवनशैली में ग्रीन टी को शामिल कर सकते हैं।
कद्दू के बीज पोटाशियम का उत्तम स्रोत होते हैं जो कि शरीर में इलेक्‍ट्रोलाइट को संतुलित रखने और ब्‍लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में मदद करता है। कद्दू के बीज स्‍ट्रेस और चिंता के लक्षणों को कम करने की शक्‍ति रखते हैं।
अगर आप मांसाहारी हैं तो डिप्रेशन से बचने के उपाय के तौर पर मछली का सेवन जरूर करें। डिप्रेशन से छुटकारा पाने के लिए साल्‍मन, मैकरेल, सारदिंस और ट्यूना मछली खानी चाहिए। ये डिप्रेशन से लड़ने में मदद करती हैं। इनमें प्रचुर मात्रा में ओमेगा-3 फैट होता है जो कि मस्तिष्‍क की कोशिकाओं के बीच संबंध बनाने में मदद करता है और न्‍यूरोट्रांस्‍मीटर के लिए रिसेप्‍टर नाडियों को मजबूती देता है। आहार में ओमेगा-3 फैटी एसिड लेने से सेरोटोनिन के उत्‍पादन में वृद्धि होती है और मूड भी अच्‍छा रहता है।
काजू, ब्राजील नट और हेजल नट में भी ओमेगा-3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में होता है। इसमें अखरोट का नाम सबसे ऊपर आता है। अखरोट मस्तिष्‍क को स्‍वस्‍थ रखने का काम करता है, क्‍योंकि इसमें प्रचुरता से पौधों से प्राप्‍त ओमेगा-3 होता है। ये प्रोटीन का भी बेहतरीन स्रोत है जिससे ब्‍लड शुगर के लेवल को संतुलित रखने में मदद मिलती है।