मध्य प्रदेश: नर्स ने पत्नी को टैबलेट खिलाने से किया इनकार, तो लात-घूंसों से पीटा - sach ki dunia

Breaking

Saturday, September 21, 2019

मध्य प्रदेश: नर्स ने पत्नी को टैबलेट खिलाने से किया इनकार, तो लात-घूंसों से पीटा

मध्य प्रदेश में शासकीय कर्मचारियों के साथ मारपीट की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं. राज्य में विशेष कानून व्यवस्था होने के बावजूद इस प्रकार की घटनाओं पर लगाम नहीं लग पा रही है. बीती रात राजगढ़ के कुरावर स्थित शासकीय स्वास्थ्य केंद्र में स्टाफ नर्स के साथ मरीज के परिजनों ने मारपीट की.

जानकारी के अनुसार रात में सुलेखा बाचले सिस्टर की ड्यूटी थी. माना निवासी घनश्याम अपने भाई रघुनंदन व साथी के साथ कुरावर स्थित सरकारी अस्पताल पहुंचा और स्टाफ नर्स सुलेखा को बताया कि महिला को 5 महीने का गर्भ है, पेट में दर्द हो रहा है. महिला के पेट दर्द की शिकायत पर नर्स सुलेखा ने महिला का परीक्षण और बताया कि महिला को एसिडिटी की वजह से पेट दर्द हो रहा है. नर्स ने दर्द की दवाई देते हुए उसे खिलाने के लिए कहा.

इसके बाद घनश्याम व उसके साथी ने महिला नर्स से बहस करते हुए गोलियों को नर्स द्वारा ही खिलाने की जिद करने लगे. नर्स ने अपनी व्यस्तता बताते हुए कहा कि आप खिलाओ. तभी नर्स के टैबलेट खिलाने से मना करने पर वो भड़क गए और महिला नर्स के साथ गाली-गलौज करते हुए मारपीट की.

घटना के समय महिला नर्स ने 100 नंबर डायल करने की कोशिश की. आरोपी मारपीट कर कर मौके से फरार हो गए. महिला नर्स ने अपने साथी स्टाफ के साथ पुलिस थाने पहुंचकर रात को ही आरोपी घनश्याम, रघुनंदन तथा एक अन्य के खिलाफ मामला दर्ज कराया. पुलिस ने आईपीसी की धारा 353, 186, 332, 506, 34 और मप्र चिकित्सा सुरक्षा अधिनियम 2008/4 के तहत मामला दर्ज कर लिया.


बताया जा रहा है कि आरोपी घनश्याम पहले से ही आदतन अपराधी है और कुरावर थाने सहित भोपाल, सीहोर क्षेत्र में लूटपाट और मारपीट सहित दर्जनों मामले में शामिल नामजद है. कुछ समय पहले उसने कुरावर थाने के बस स्टैंड इलाके में एक व्यक्ति पर देसी कट्टे से फायर भी किया था.

अस्पताल में नहीं है कोई भी सुरक्षा इंतजाम

136 गांवों को स्वास्थ्य लाभ पहुंचाने वाले कुरावर के सरकारी अस्पताल में सुरक्षा के लिहाज से किसी प्रकार की व्यवस्था नहीं है. न ही अस्पताल में सुरक्षा गार्ड हैं और न ही विभाग ने इस अस्पताल में सीसीटीवी लगवा रखे हैं, जिससे किसी अप्रिय घटना की जानकारी विभाग तथा पुलिस को हो सके.

No comments:

Post a Comment