Telangana Election Result 2018: तेलंगाना में TRS की आंधी, KCR जीते

57

दिल्ली,  तेलंगाना विधानसभा चुनाव में TRS ने शानदार वापसी की है. यहां पर पार्टी दो तिहाई वोटों से भी ज्यादा बहुमत से सरकार बनाने जा रही है. इस चुनाव में तेलंगाना राष्ट्र समिति के अध्यक्ष के. चंद्रशेखर राव ने 1985 से कभी चुनाव नहीं हारने का रिकार्ड इस चुनाव में भी बरकरार रहा. वह गजवेल विधानसभा सीट से विजयी हुए हैं. केसीआर के रूप में प्रसिद्ध राव ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के वी. प्रताप रेड्डी को 50,000 से ज्यादा मतों के अंतर से हराया. 2014 में, टीआरएस प्रमुख ने यहां से प्रताप रेड्डी के खिलाफ 19,391 मतों से जीत हासिल की थी. रेड्डी ने तेलुगू देशम पार्टी से चुनाव लड़ा था।.

अलग तेलंगाना राज्य के लिए आंदोलन की अगुवाई के मद्देनजर केसीआर ने 2001 में तेदेपा से अलग होकर टीआरएस पार्टी का गठन किया. वह लोकसभा के लिए करीमनगर से तीन बार और महबूबनगर सीट से एक बार चुने गए।
कांग्रेस को इस चुनाव में हार का मुंह देखना पड़ा है. तेलंगाना में कांग्रेस पार्टी को न केवल विधानसभा चुनाव में भारी हार का सामना करना पड़ा है, बल्कि शर्मिदगी का भी सामना करना पड़ा है, क्योंकि लगभग सभी शीर्ष नेताओं को हार का मुंह देखना पड़ा है. कांग्रेस नेतृत्व वाले पीपुल्स फ्रंट की जीत की स्थिति में जिन्हें मुख्यमंत्री पद के दावेदार के रूप में देखा जा रहा था, उन्हें भी हार का स्वाद चखना पड़ा है. नेता प्रतिपक्ष के. जना रेड्डी भी नागार्जुनसागर निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव हार गए.  कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष रेवंत रेड्डी, जिनकी गिरफ्तारी पर पिछले सप्ताह काफी बवाल मचा था, वह भी कोडंगल सीट बरकरार रखने में नाकाम रहे.
रेवंत ने मतदान के बाद घोषित कर दिया था कि अगर वह हार जाते हैं तो राजनीति छोड़ देंगे. तेलंगाना राष्ट्र समिति के पी. नरेंद्र रेड्डी ने कांग्रेस नेता को 9,077 मतों से पराजित किया. कांग्रेस के एक अन्य कार्यकारी अध्यक्ष पोन्नम प्रभाकर, करीमनगर सीट से हार गए. पूर्व केंद्रीय मंत्री सर्व सत्यरायण सिकंदराबाद छावनी से जीतने में नाकाम रहे. आंध्र प्रदेश के पूर्व उपमुख्यमंत्री दामोदर राजानरसिम्हा एंडोल से हार गए. वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं व आंध्र प्रदेश के मंत्रियों जे. गीता रेड्डी, डी.के. अरुणा, जीवन रेड्डी, कोमटरेड्डी वेंकट रेड्डी, पोन्नला लक्ष्मैया, मोहम्मद अली शब्बीर, कोंडा सुरेखा, जी चिन्ना रेड्डी, एन. जनार्दन रेड्डी और मुकेश गौड़ को भी हार का मुंह देखना पड़ा है.

इस राज्य में  तीन हिन्दीभाषी राज्यों में जीत पर इतरा रही कांग्रेस ने मंगलवार को इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन में छेड़छाड़ की आशंका व्यक्त की है. कांग्रेस के राज्य प्रमुख उत्तम कुमार रेड्डी ने मांग करते हुए कहा कि वोटर वेरीफाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल की सौ प्रतिशत गिनती की जाए. उन्होंने कांग्रेस के सभी उम्मीदवारों से वीवीपैट की गिनती के संबंध में निर्वाचन अधिकारियों को पत्र देने के लिए कहा है.
इस चुनाव में बीजेपी को भी हार का मुंह देखना पड़ा है. चुनाव में भाजपा को मात्र एक सीट पर जीत मिली है. गोशमहल सीट से बीजेपी के टी राजा सिंह ने चुनाव जीता है. इस चुनाव में AIMIM को 7 सीटों पर जीत मिली है. AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी के भाई अकबरुद्दीन भी अपना चुनाव जीत गए हैं. उन्होंने चंद्रायनगुट्टा विधानसभा सीट पर बीजेपी के शहजादी सैय्यद को 80 हजार वोटों से हराया. चारमीनार सीट पर भी AIMIM कैंडिडेट को जीत मिली है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here