इमरान खान पहली चीन यात्रा पर पहुंचे बीजिंग, मांग सकते हैं और कर्ज

12

बीजिंग। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान यहां शुक्रवार को चार दिन के चीन दौरे पर पहुंचे। यह दौरा ऐसे समय हो रहा है, जब पाकिस्तान ने चीन की कनेक्टिविटी परियोजना सीपीईसी को लेकर हिचक दिखाई है।

अपने दौरे के दौरान खान चीन से और ऋण मांगेंगे, जो पाकिस्तान का सबसे बड़ा कर्जदाता है। खान चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और प्रधानमंत्री ली केकियांग से मिलेंगे। इसके अलावा वह शंघाई में रविवार को चीन के अंतर्राष्ट्रीय आयात एक्सपो में भी भाग लेंगे।

खान की अगुवाई में पाकिस्तान की नई सरकार ने चीन की 60 अरब डॉलर की चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) परियोजना को दिए जा रहे कर्ज पर चिंता व्यक्त की है, जो कि चीन की बेल्ट और रोड पहल की प्रमुख परियोजना है।

वास्तव में पाकिस्तान की वित्तीय बदहाली का हवाला देते हुए चीन ने सीपीईसी के तहत एक रेलवे परियोजना के बजट को 8.2 अरब डॉलर से घटाकर 6.2 अरब डॉलर कर दिया है।

खान ने चीन द्वारा वित्त पोषित सीपीईसी में सऊदी अरब को शामिल होने का निमंत्रण दिया था, जिससे चीन खफा हो गया था। इसके बाद यह निमंत्रण वापस ले लिया गया। क्योंकि सऊदी अरब अमेरिका का सहयोगी और ईरान का शत्रु है, जबकि ईरान चीन को सबसे बड़ा तेल निर्यातक है।

चीन ने हालांकि उन खबरों को खारिज किया है कि पाकिस्तान सीपीईसी को लेकर चिंतित है, और कहा है कि दोनों देशों में हमेशा दोस्ती रहेगी। खान के दौरे के दौरान चीन पाकिस्तान को नए कर्ज देने का ऐलान कर सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here