कौन-सा रुद्राक्ष, किस तरह है लाभकारी…

रुद्राक्ष को अक्सर भगवान शिव की उपासना के लिए माना जाता है। रुद्राक्ष धारण करने से भगवान शिव प्रसन्न होते है ये सत्य है। लेकिन क्या आप ये जानते है कि बारह मुखी रुद्राक्ष...

ये है कन्या पूजा का शुभ समय और अष्टमी-नवमी तिथि

शारदीय नवरात्रि का आरम्भ 10 अक्टूबर 2018 से हो गया है। नवरात्रि के पहले दिन यानी 10 अक्टूबर को प्रतिपदा और द्वितिया दोनों तिथियां थी। जिसके कारण एक दिन में दो व्रत रखें गए। 18...

अगर रोज मंदिर जाने में हैं असमर्थ, करें ये छोटा सा काम- बन जाएगा...

रोजाना पूजा-पाठ और मंदिर जाना हमारे धर्म-शास्त्रों में जरूरी बताया गया है। जीवन में कई परेशानियों को दूर करने के लिए मेहनत के साथ ही भाग्य का साथ मिलना भी जरूरी है। इसलिए लोग...

शनिदेव की साढ़ेसाती का हुआ अंत आज से इन 4 राशि के जातकों मिलेगी...

शनिदेव की साढ़ेसाती के चलते पिछले कुछ समय से 4 राशि के जातकों के काम में लगातार रुकावटें आ रही थी और आज शनिदेव की साढ़ेसाती का अंत होने से उन 4 राशि वालों...

कैसे हुई भगवान श्री कृष्ण की मृत्यु, किसने मारा था उन्हें तीर- जानिए रोचक...

भगवान श्रीकृष्ण की लीला 125 वर्षों तक धरती पर लीला की। उसके बाद उनके वंश को श्राप मिला कि पूरा यदुवंश समाप्त हो जाएगा। यह श्राप एक ऋषि ने यदुवंशियों को उनकी तपस्या भंग...

नवरात्री 2018: यहां पढ़ें नवरात्री व्रत में क्या खाना चाहिए

नई दिल्ली:  नवरात्रि पर देवी पूजन और नौ दिन के व्रत का बहुत महत्व है। व्रत रखने के दौरान कुछ लोग अपनी सेहत को नजरअंदाज कर देते हैं। वे पूरी सख्ती से दिन में केवल...

माथे पर किस तरह के तिलक लगाने से मिलेगी अपार सफलता

हिंदू धर्म में पूजा-पाठ के बाद माथे पर तिलक लगाने की परंपरा है। पूजा-पाठ नहीं तो यूं ही ललाट पर तिलक लगाया जाना शुभ माना जाता है। पर क्या आपको पता है कि माथे...

श्राद्ध में भूल कर भी न पकाएं ये भोजन, वरना नाजार हो जाएंगे पूर्वज

आमुमन तौर पर हर अमावस्य और पूर्णिमा को मन्दिरों में पितरों के नाम का दान दिया जाता है। लेकिन माना जाता है कि श्राद्ध के 16 दिन पूर्वज धरती पर आते हैं और अपने...

जानिए पितृ दोष के लक्षण,कारण एवं निवारण हेतु उपाय

भारतीय संस्कृति और शास्त्रों में मृत्यु और पुर्नजन्म की व्याख्या बहुत ही विस्तृत रूप से बताई गई है जिसके मुताबिक मृत्यु के बाद केवल शरीर नष्ट होता है,लेकिन आत्मा अमर रहती है। जो मृत्यु...

पितृपक्ष में क्या करें और क्या न करें

जब पितरों के कर्मो का लोप होने लगता है अर्थात जातक के द्वारा पितरों के श्राद्ध आदि कर्म उचित व विधिपूर्वक नहीं किये जाते है तो पितर प्रेत योनि में चले जाते है और...
- Advertisement -

Recent Posts